Insulin plants for sale. minimum order 100 plants

Read and delete this template text when posting - this is to help you post an ad in a proper way.
Please ensure the ad/offer is in the Ads & Offers category and has right tags.
Topics with wrong category and incorrect tags will be deleted.

Rules:

  • Ads should be for farming related products and services - can be buy, sell, wanted, trainings etc.
  • Create your ad with as much detail as possible with factual information. You are responsible for your ads.
  • No ads for import of birds and other illegal stuff allowed.
  • No ads to promote websites allowed.
  • If you posting a link to your website as part of the ad, we need you to have a backlink to farmnest.com on your site, one link per link posted here.
  • Do not repeat same ads more than once in two months. Post additional details on your original ad instead.
  • Once your product is sold/unavailable, please post an update so no more users contact you.
  • Ads will be removed after a certain period of posting.
  • Inappropriate and incomplete ads will be removed.
  • Ads on the forum is experimental and is subject to changes. We expect to merge ads.farmnest.com based on some experience with this new section.

Format: Include as many of the below details as possible

  • Title: Include product and location
  • Tags: Select upto 5 relevant tags for the ad in the box below
  • Description
  • Quantity available/wanted
  • When available/wanted
  • Price expected/willing to pay
  • Shipping and charges
  • How to contact you - members can contact you through forum message and email without you having to post your email id. You can optionally post your email id and phone number.

Hello Friends I have a large number of insulin plants ready for sale. Contact me at 9897169654

शरीर में शुगर

नियमित रूप से इंसुलिन और मधुमेह की दवा लेने वाले रोगियों के लिए आज हमारे पास एक अच्छी खबर है। वो खबर यह है कि पौधे की पत्तियां खाकर ही आप अपने शरीर में शुगर के स्तर को नियंत्रित कर सकते हैं। आपको दवाई या इंसुलिन के इंजेक्शन लगवाने की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी।

कॉसटस इग्नेउस

कॉसटस इग्नेउस नाम के पौधे को लोग इंसुलिन के पौधे के नाम से जानते हैं। हो सकता है आपको ये सभी बातें मिथ्या लगें लेकिन सच यह है कि आधुनिक विज्ञान भी इस इंसुलिन के पौधे के गुणों पर अपनी मुहर लगा चुका है।

हाइ डाइबटीज

इस हर्बल पौधे के पत्तियों का सेवन करने से हाइ डाइबटीज को भी अपने नियंत्रण में किया जा सकता है।

दो प्रकार की डाइबटीज

जानकारों के अनुसार शरीर में डाइबटीज दो प्रकार से होती है। एक होती है टाइप वन डाइबटीज और दूसरी टाइप टू डाइबटीज।

टाइप वन डाइबटीज

टाइप वन डाइबटीज के अंतर्गत रोगी का शरीर इंसुलिन हार्मोन नहीं बना पाता। इसलिए उस व्यक्ति को ताउम्र इंसुलिन का इंजेक्शन लेना पड़ता है। डाइबटीज के करीब 10 प्रतिशत रोगियों में ही टाइप वन पाया जाता है।

टाइप टू डाइबटीज

वहीं दूसरी ओर टाइप टू डाइबटीज के अंतर्गत व्यक्ति का शरीर इंसुलिन तो बनाता है लेकिन उसकी मात्रा पर्याप्त नहीं होती। इन रोगियों के ही शरीर में दवा या इंजेक्शन, किसी के भी जरिए इंसुलिन पहुंचाया जाया है।

हॉर्मोन

विशेषज्ञों के अनुसार डाइबटीज टू से पीड़ित रोगियों की संख्या करीब 80 प्रतिशत है। इंसुलिन पौधे के पत्तों का नियमित रूप से सेवन करने से पैंक्रियाज में हॉर्मोन बनाने वाली ग्रंथि के बीटा सेल्स मजबूत होते हैं।

पैंक्रियाज

जिसके परिणामस्वरूप पैंक्रियाज ज्यादा मात्रा में इंसुलिन बनाता है, जिसके चलते अतिरिक्त दवा की कोई आवश्यकता नहीं पड़ती।

इंसुलिन की जरूरत

इंसुलिन के बारे में अब तक हमने आपको बहुत कुछ बता दिया लेकिन कहीं ना कहीं आपके दिमाग में यह सवाल भी कौंध रहा होगा कि आखिर हमारे शरीर को इंसुलिन की इतनी जरूरत क्यों होती है?

जिज्ञासा

चलिए इस सवाल का जवाब भी हम आपको देते हैं और आपकी जिज्ञासा को शांत करने की कोशिश करते हैं।

दैनिक जीवन

दैनिक जीवन के कार्यों को पूरा करने के लिए हमारे शरीर को ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है। हमारे भोजन में शामिल कार्बोहाइड्रेट्स इसी ऊर्जा की पूर्ति करते हैं।

कार्बोहाइड्रेट्स

कार्बोहाइड्रेट्स, ग्लूकोज बनकर हमारे खून में मिलता है लेकिन अकेले कार्बोहाइड्रेट्स हमारे शरीर में ऊर्जा की पूर्ति नहीं कर सकते, उन्हें इंसुलिन नामक हार्मोन की आवश्यकता अवश्य पड़ती है।

ग्लूकोज

दरअसल अकेले ग्लूकोज हमारे शरीर में मौजूद कोशिकाओं के अंदर नहीं पहुंच सकता, इंसुलिन से मिलकर ही ग्लूकोज हमारे शरीर के अंदर घुलता है।

शुगर का स्तर

आप कह सकते हैं कि इंसुलिन एक ऐसी चाबी की तरह है, जिसके जरिए ग्लूकोज शरीर के भीतर घुलता है। इस हार्मोन की कमी की वजह से ग्लूकोज कोशिकाओं तक पहुंच नहीं पाता और शरीर में शुगर का स्तर बढ़ जाता है और अंतत: व्यक्ति डाइबटीज से पीड़ित हो जाता है।

नर्सरी

राह हमने दिखा दी, इसपर चलने की जिम्मेदारी अब आपकी।

Price of per plant or seed is rs 300/- excluding the delivery charges.